Viral: तीन संतानों की मां सीमा देवी के मजबूत हौसले, बनीं जम्मू की पहली महिला ई-रिक्शा चालक:

Viral: तीन संतानों की मां सीमा देवी के मजबूत हौसले, बनीं जम्मू की पहली महिला ई-रिक्शा चालक:

सीमा शादी सुदा है और उनका एक बेटा (15) और दो बेटियां 14 और 11 साल की हैं,वह ई-रिक्शा चलाती हैं और ऐसा करने वाली वह क्षेत्र की पहली महिला हैं, जिसके लिए उन्हें सोशल मीडिया पर काफी सराहना मिल रही है।

आज की दुनियां में महिलाएं हर क्षेत्र में चमक रही है, चाहे वह घर चलाना हो या वह हवाई जहाज उड़ाना हो, ट्रेन चलाना हो या देश की सीमाओं की सुरक्षा करना हो।सीमा ने कहा की, महिलाएं खासकर छोटे शहरों, कस्बों और गांवों में, अगर कोई महिला कुछ ऐसा करती है जो ज्यादातर पुरुष करते हैं, तो उसे बहुत आलोचना का सामना करना पड़ता है। लोग उसे बातें सुनाते है, जम्मू में भी ऐसी सोच आम है, लेकिन मैने फिर भी इस काम को करना चुना।सीमा जम्मू जिले के नागटोरा की रहने वाली हैं, जो इन दिनों सोशल मीडिया पर काफी लोकप्रिय हैं।

सीमा शादी सुदा है और उनका 1 बेटा पंद्रह साल और दो बेटियां 14 और 11 साल की है। वह ई रिक्शा चलाती है । और ऐसा करने वाली वह अपने क्षेत्र में पहली महीला है। जिसके लिए उन्हें सोशल मिडिया पर काफी सराहना मिल रही है। सीमा ने कहा- मेरे पति भी काम करते है, मैंने भी अपने बच्चों की बेहतर शिक्षा और प्रशिक्षण के लिए काम करने का फैसला किया।मैं एक ई-रिक्शा चलाती हूं।मेरे परिवार के सदस्यों को मेरी पसंद के पेशे के लिए बहुत सारे ताने सुनने पड़े। लेकिन वह हमेशा मेरे साथ खड़े रहे है।

सीमा को कोई नौकरी छोटी नही लगती है,महिलाओं को केवल कुछ नौकरियों तक सीमित रखने के विचार से सीमा सहमत नहीं है। उन्होंने कहा, आज महिलाएं ट्रेन चला रही हैं, हवाई जहाज उड़ा रही है हैं, तो मैं ई-रिक्शा क्यों नहीं चला सकती, मैं 9वीं कक्षा में थी जब मेरे माता-पिता ने मेरी शादी कर दी थी। मुझे पढ़ने का शौख था, मैं अपनी पढ़ाई नहीं कर पाई। अब मैं अपनी बेटियों को उच्च शिक्षा देना चाहती हूं।दिसंबर 2020 को कठुआ की पूजा देवी नाम की एक महिला बस और ट्रक चलाने वाली जम्मू-कश्मीर की पहली महिला बनी थी।अब सीमा ने इस क्षेत्र में ‘शीशे की छत’ को तोड़ने वाली महिलाओं की सूची में एक और उपलब्धि को जोड़ दिया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *