Baba vanga prediction: दो महीने के अंदर भारत पर आ सकती हैं बड़ी मुसीबत, बाबा वेंगा ने की भविष्यवाणी :

Baba vanga prediction: दो महीने के अंदर भारत पर आ सकती हैं बड़ी मुसीबत, बाबा वेंगा ने की भविष्यवाणी :

बुल्गारिया के दृष्टिहीन बाबा वेंगा की भविष्यवाणी पर पुरी दुनियां यकीन करती है।अब बाबा वेंगा की भारत पर की गई भ्विष्यवाणी लोगों को डरा रही हैं।

आइए जानते हैं की बाबा वेंगा ने भारत को लेकर क्या भविष्यवाणी की है:

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, बाबा वेंगा ने भविष्यवाणी की थी की साल 2022 में दुनियां में तापमान कम होगा जिसकी वजह से टिड्डियों का प्रकोप बढ़ेगा और भोजन की तलाश में टिड्डिया भारत पर हमला करेंगी। टिड्डियों के हमले से फसलों को काफी नुकसान होगा।

इसकी वजह से भारत में अकाल की स्तिथि उत्पन हो सकती हैं और देश में भुखमरी की समस्या पैदा होने की संभावना है। अगर बाबा वेंगा की भविष्यवाणी सच साबित हुई तो भारत को काफ़ी मुश्किलों का सामना करना पड़ सकता हैं। इससे पहले भी बाबा वेंगा की कई भविष्यवाणीया सच साबित हुई है जिसकी वजह से लोगों के मन में डर समा गया हैं।

जानिए कौन सी दो भविष्यवाणीयां सच साबित हुई है:

बाबा वेंगा ने साल 2022 के लिए कई डरावनी भविष्यवाणी की थी जिसमें से कुछ देशों में पानी की कमी से परेशानी होने की बात कही थी। पुर्तगाल और इटली जैसे देशों में लोगों ने पानी का कम इस्तेमाल करने के लिए कहा है। 1950 के दशक के बाद इन दोनो देशों में सबसे कम बारिश हो रही है। इटली को भी 1950 के दशक के बाद सबसे ज्यादा सूखे का सामना करना पड़ रहा हैं।

बाबा वेंग ने कहा था की इस साल एशियाई देशों और ऑस्ट्रेलिया के कुछ इलाकों में बाढ़ आएगी इसके अलावा बाबा ने भूकंप और सुनामी आने की भविष्यवाणी की थी। इस साल भारी बारिश की वजह से ऑस्ट्रेलिया के पूर्वी तट पर तबाही मची थी।

कौन है बाबा वेंगा:

बाबा वेंगा बुलगारिया की रहने वाली थी वह एक फकीर और दृष्टिहीन थी जिनकी कई भविष्यवाणीयां सच साबित हुई है। बाबा वेंगा का जन्म 1911में हुआ था और महज 12 वर्ष की उम्र में उनकी आंखों की रोशनी चली गई। कहा जाता हैं की उनकी 85 प्रतिशत भविष्यवाणीयां सच साबित हुई है। अगस्त 1966 में स्तन कैंसर की वजह से बाबा वेंगा की मौत हो गई। लेकिन अपनी मौत के पहले ही उन्होंने सन 5079 तक की भविष्यवाणी कर दी थी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *